Nigahe jab mili unse


निगाहें जब मिली उनसे तभी दिल हार बैठा हूँ,
मैं उसपे वारने के लिये सब कुछ तैयार बैठा हूँ,
अगर एक बार कह दे वो कि आ जाओ मेरे दिल में,
मैं दुनियाभर की रस्मों को भुलाने को भी बैठा हूँ।

Leave a Comment