Pani shayari | shayari on water

Advertisement

Pani shayari – हर कोई जानता है पानी है तो ही जीवन है क्योकि जिस तरह हवा के बिना जीवन सम्भव नहीं है उसी तरह पानी के बिना जीवन की कोई कल्पना नहीं है अगर हमें अपने आने वाले कल को बचाना है तो हमें आज से ही पानी को बचाना चाहिए जैसा की आप भी जानते है धरती से पानी का level लगातार कम होता जा रहा है

इसलिए आज मै खासकर पानी के उपर कुछ शायरी लाया हु उम्मीद करता हु आपको बहुत पसंद आएगी

Advertisement

पानी तेरे कितने नाम
अगर जम कर गिरे तो ओले
अगर गिर कर जमे तो बर्फ

मैंने पानी बचा रखा था अपनी आखो में
एक समंदर अपने सूखे होठ लेकर आ गया

Advertisement

Anmol vachan shayari

Advertisement

मैंने किसी की याद में आखो से लहू छलका दिया
एक दरिया कह रहा था उसे पानी चाहिए

जितनी जमीन नहीं उससे कई गुना हैं पानी
फिर भी आज कम हैं जमीन पर पानी

न जाने सच्ची मोहब्बत करने वालो को क्या क्या मिला हैं
हमें तो बस आखो में पानी ही मिला हैं

ए दुनिया वालो बस इतना कहना चाहूँगा
बचा लो बचा लो
मुझको नहीं खुदको
क्योकि मेरे बिना कुछ नहीं

water shayari
shayari-on-water

तुम मुझे जल दो
मै तुम्हे जीवन दूंगा

Advertisement

हम जब तक पानी की कीमत नहीं समझेंगे
जब तक नदिया नहीं सुख जाती

 पानी में अछ देखकर खुश हो रही थी मै
पत्थर किसी ने फेककर मंजर बदल दिया

तुम पानी जैसे बनो जो अपना रास्ता खुद बनाता है
पत्थर जैसे न बनो जो दूसरो का रास्ता रोक लेते है

Read Also – Salman shayari

pani wala shayari
pani wala shayari  water

पानी तालाब में हो या आखो में
गहराई दोनों में होते है

Advertisement

मैं दरिया भी किसी गैर के हाथों से न लूं
अगर एक कतरा भी पानी है  तू देदे!

पानी तेरे कितने नाम
आकाश से गिरे तो बारिश
धरती से उड़े तो भाप

pani-ke-upar-shayari
pani-ke-upar-shayari

पानी ही तो है जीवन की आस
इसलिए हमेशा करो इसे बचाने का प्रायस

Read also – Motivational shayari

पानी भरपूर अगर है
पास, खुशहाल हमारा हर पल है।
भविष्य तभी उज्जवल है,
जब पास सुरक्षित पेय जल है ।

Advertisement

जल ही है असली सोना
इसे कभी मत खोना

pani ki shayari
pani ki shayari

इतेफाक रखो इस कहानी से,
जीवन निकला था पानी से।
बरबाद ना हो थोड़ा भी कभी,
नहीं मिलता ये आसानी से।

भविष्य तभी उज्जवल है,
जब पास सुरक्षित पेय जल है ।

जल से ही भरा समंदर है, पर खारा पानी अंदर है।
हम ढूढे और इसमे है जो, ज़मी आसमान का अंतर है।

Read also Best shayari for my girlfriend

Advertisement

जब झूम के आए घटा घनघोर,
बरसे पानी जब चारो ओर।
बहता पानी जहाँ दिख जाए,
तो समेटो लगाके पूरा ज़ोर।

जहाँ पानी है वहाँ जीवन है,
इसके ही कारण सावन है।
इससे ही मिट्टी की खुशबू,
हँसता-खिलता हर आँगन है।

जब जब प्यास लगी हैं
तब तब ये पानी अमृत सा लगी हैं
न जाने क्यों लोग पैसो के पीछे पागल है
जबकि असली दौलत तो धरती हैं

जो हैं नहीं, अब उसे याद न कर
अपने आज के लिए
तू पानी को बर्बाद न कर

कोई रंग नहीं मेरा
फिर भी पागल हैं
ये दुनिया मेरे लिए
आज मैं फ्री हु
तो मेरी कीमत नहीं समझते
पर याद रखना
अगर मैं नहीं तो तुम भी नहीं

Advertisement

Read also  Best khubsurat shayari

Leave a Comment