Dard bhari shayari (दर्द भरी शायरी) in hindi

मेरी मोहब्बत में कमी नहीं
बस उनके नखरे थोड़े जादा थे

Advertisement

कभी कभी सोचता हु
वो बस मिल जाए एक बार
उसके गले लग कर जी भर के रो लू

अब बस खत्म करो सब कुछ और रहम करो मुझ पर,
कही बहुत दूर चले जाओ मेरी नजरो से
कहीं मैं शायर ना बन जाऊं।

न ख़ुशी मिलती हैं न मौत मिलती हैं
मोहब्बत के सफ़र में बस बेबसी मिलती हैं
तोड़ देता हैं क्यों कोई अपना
जब भी थोड़ी ख़ुशी मिलती हैं

Advertisement

Read also – Dil todne wali shayari

कभी मिलना हुआ तो जान जाओगे
हम वैसे नहीं जैसे बताये जाते है

आज वो हो गयी किसी और की
भुला के सभी वादों को

उसको लगता है मुझको दर्द नहीं होता
खेर बात को क्या बढ़ाना नहीं होता तो नहीं होता

Advertisement
dard bhari shayari

Must Read – Dukhi shayari

गमो का भार अब और उठाया नहीं जाता
खामोश रहने लगा हु
दर्द किसी और को सुनाया नहीं जाता

देख तेरे जाने के बाद
धीरे धीरे मरने लगे हम

तुमने किया न याद कभी भूलकर हमें
हमने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया

Advertisement

Leave a Comment